श्री परमहंस स्वामी माधवानन्द महाविद्यालय, जाडन

 पाली (राज.)

(जयनारायाण व्यास विश्वविद्यालय से सम्बद्धता प्राप्त)

(शिक्षा निदेशालय राजस्थान सरकार से मान्यता प्राप्त)

परिचय-

      हिन्दुधर्म सम्राट परमहंस स्वामी माधवानन्दपुरी जी के नाम से अलंकृत महाविद्यालय की स्थापना १४ अगस्त, २००६ को विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस स्वामी महेश्वरानन्दपुरी जी महाराज के आशीर्वाद व स्वामी माधवानन्द जी के परमभक्त श्री जेठमल जी बिनावरा (बीकानेर) के कर कमलो से हुई ।

      महाविद्यालय राजस्थान सरकार से मान्यता एंव जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय से सम्बद्धता प्राप्त है।

      शिक्षा, आध्यात्म, संस्कृति, संस्कार राष्ट्रीय गौरव को साकार करता महाविद्यालय पश्चिमी राजस्थान के पाली जिले के राष्ट्रीय राजमार्ग १६२ पर स्थित गांव जाडन खालसा पर स्थित ॐ श्री विश्वदीप गुरुकुल स्वामी महेश्वरानन्द आश्रम शिक्षा एवं शोध संस्थान द्वारा संचालित किया जा रहा है। जिसके पीठाधीश्वर विश्वगुरु परमंहस महामण्डलेश्वर श्री श्री १००८ स्वामी महेश्वरानन्दपुरी जी महाराज है।

सन् २००६-०७ से महाविद्यालय शिक्षा के साथ साथ अन्य गतिविधियों में निरन्तर प्रगति के पथ पर अग्रसर है। विद्यार्थियों के सम्पूर्ण व्यक्तित्त्व के विकास के साथ अनुशासित जीवन जीने की शिक्षा हमारा अहम् ध्येय है भारतीय संस्कृति की ओर उन्मुख तथा जीवन मुल्यों पर आधारित शिक्षा जिसमें प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुएं रोजगारोंन्नमुखी विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास की ओर ध्यान दिया जा रहा है। महाविद्यालय में अनुभवी, योग्य व्याख्याताओं द्वारा अध्ययन करवाया जाता है। समय समय पर विषय विशेषज्ञों द्वारा मार्गदर्शन दिया जाता है। साथ ही साथ महाविद्यालय में विद्यार्थियों के सृजनात्मक कौशल हेतु, माधवज्योति स्मारिका का प्रकाशन, भाषण, निबन्ध, रंगोली, कविता, आशु कविता, वाद-विवाद आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। महाविद्यालय में राष्ट्रीय - अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सेमिनार, वर्कशॉप, संगोष्ठि, प्रशिक्षण एवं कार्यशाला का आयोजन करके समसमायिक ज्ञान-विज्ञान का मंथन किया जाता है। विश्वविद्यालय स्तर की खेलकूद प्रतियोगिताएं समय समय पर सम्पन्न करवायी जाती है। वर्ष में एक बार शैक्षणिक भ्रमण रखा जाता है।